15.1 C
New Delhi
November 28, 2021
National Trending

कोरोना पॉलिसी में बदलाव, संक्रमित मरीजों के लिए सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना रोगियों को कोविड सुविधाओं को अस्पतालों में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय नीति में संशोधन किया है।

Covid 19 In In India केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय कोरोना रोगियों को कोविड सुविधाओं को अस्पतालों में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय नीति में संशोधन किया है। कोविड स्वास्थ्य सुविधा में प्रवेश के लिए अब कोविड पॉजिटिव टेस्ट की जरूरत अनिवार्य नहीं होगी।

नई दिल्ली। कोरोना के मरीजों को अस्पताल में दाखिले को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नेशनल पॉलिसी में बड़ा बदलाव किया है। अब तक अस्पतालों में एडमिट होने के लिए कोविड पॉजिटीव रिपोर्ट अनिवार्य होती थी। नए बदलाव के तहत अब रिपोर्ट की अनिवार्यता खत्म कर दी गर्इ है। इस कारण कई बार मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था। इस कारण कई मरीजों की मौत हो जाती थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बारे में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के चीफ सेक्रेटरी को निर्देश दिया है। जिसके अनुसार 3 दिनों के भीतर नई नीति को अमल में लाएं।

इस नीति के तहत ऐसे संदिग्ध मरीजों को सस्पेक्टेड वार्ड में दाखिला मिल सकेगा। इसमें कोविड केयर सेंटर, पूर्ण समर्पित कोविड केयर सेंटर और कोविड अस्पताल शामिल हैं। साथ ही नई पॉलिसी में यह भी साफ किया गया है कि मरीजों को इस आधार पर इनकार नहीं किया जा सकता को वह किस राज्य से हैं। किसी भी मरीज को कहीं भी दाखिला मुमकिन होगा।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोई पहचान पत्र न रखने वाले लोगों का भी टीकाकरण करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके मुताबिक ऐसे लोगों को कोविन ऐप में पंजीकृत किया जाएगा और उनके टीकाकरण के लिए विशेष सत्र आयोजित किए जाएंगे। इन लोगों की पहचान करने की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा निर्देश में कहा गया है कि होम आइसोलेशन में 10 दिनों तक रहने और लगातार तीन दिनों तक बुखार न आने की स्थिति में मरीज होम आइसोलेशन से बाहर आ सकते हैं और उस समय टेस्टिंग की जरूरत नहीं है। दिशानिर्देशों के मुताबिक स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा मरीज की स्थिति को हल्का या बिना लक्षण वाला केस तय किया जाना चाहिए। ऐसे मामले में मरीज के सेल्फ आइसोलेशन की उनके घर पर व्यवस्था होनी चाहिए। ऐसे मरीज जिस कमरे में रहते हों उसका आक्सीजन सैचुरेशन भी 94 फीसद से ज्यादा होना चाहिए और उसमें वेंटिलेशन की भी बेहतर व्यवस्था होनी चाहिए।

Related posts

राहुल गांधी ने ट्वीट में की सभी देशवासियों के लिए मुफ्त कोरोना वैक्सीन की वकालत

Umang Singh

सुप्रीम कोर्ट ने राजस्‍थान के गैरसहायता प्राप्‍त निजी स्‍कूलों को वार्षिक फीस में 15% कटौती का दिया निर्देश

Umang Singh

लेंसेट पत्रिका में लिखा : PM मोदी के काम माफी लायक नहीं, उन्हें कोरोना पर अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए

Umang Singh

स्वास्थ्य मंत्रालय :देश में तेजी से ठीक हो रहे कोरोना के मरीज, 18 राज्यों में 50 हजार से भी कम हैं नए मामले

Umang Singh

कोरिया में खोजी गई कैंसर खत्म करने वाली CAR-T थेरेपी, शुरू किया गया पहला क्लीनिकल ट्रायल

admin

WTC Final: न्यूजीलैंड के खिलाफ मैदान में उतरते ही इतिहास रचेगी टीम इंडिया, 89 साल में पहली बार हो ऐसा

Umang Singh

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases