16.1 C
New Delhi
December 5, 2021
Trending लाइफस्टाइल

कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज कब लगेगा? और समय पर नहीं मिला तो एंटीबॉडी बनने पर क्या असर होगा, जानिए सब कुछ

एक मई के बाद कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर कई तरह के नए सवाल सामने आए हैं। अधिकांश जगहों पर वैक्सीन के डोज उपलब्ध नहीं हैं या हैं भी तो बहुत कम हैं। कई लोग दूसरा डोज लेना तो चाहते हैं, पर अपॉइंटमेंट बुक नहीं हो पा रहा। उन्हें चिंता सता रही है कि अगर समय पर वैक्सीन का दूसरा डोज नहीं ले पाए तो क्या होगा? अगर देरी हुई तो क्या होगा? इसका इम्युनिटी या एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया पर क्या असर पड़ेगा?

सवालों का सिलसिला यहीं आकर नहीं थमता। हर डोज के साथ किंतु-परंतु जुड़ रहे हैं। कई लोग ऐसे हैं जिन्हें पहला डोज लगने के बाद कोरोना इन्फेक्शन हो गया। अब उन्हें चिंता है कि दूसरा डोज कब लगेगा? दरअसल, 1 मई से देश में 18+ को वैक्सीन लगने की शुरुआत हुई है, लेकिन वैक्सीन डोज की अनुपलब्धता ने दूसरे डोज का शेड्यूल बिगाड़ दिया है। हमने इस संबंध में महामारी और वैक्सीन एक्सपर्ट डॉ. चंद्रकांत लहारिया, एमडी, सहित विशेषज्ञों से बात की, ताकि आपको सही फैसला लेने में मदद मिले।

दूसरे डोज को लेकर किस तरह की दिक्कतें आ रही हैं?
1 मई से पूरे देश में 18+ को कोरोना वैक्सीन लगनी शुरू हुई है। पर पेंच यह फंसा है कि 18-44 वर्ष के लोगों को राज्य सरकारें वैक्सीन लगवा रही हैं और 45+ को केंद्र सरकार। यानी 45+ के लिए डोज केंद्र सरकार दे रही है, वहीं 18-44 वर्ष के ग्रुप के लिए राज्य सरकारें सीधे वैक्सीन कंपनियों से डोज खरीद रही हैं।
ज्यादातर राज्यों में उतने ही वैक्सीन डोज थे, जो केंद्र ने उन्हें दिए थे। यानी 45+ के लिए थे। जब इन राज्यों में 18-44 वर्ष आयु समूह को वैक्सीन लगनी शुरू हुई तो 45+ के लिए डोज कम पड़ गए। पिछले हफ्ते केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा कि दूसरे डोज को प्राथमिकता दी जाए। यानी जिन्हें एक डोज दे दिया है और दूसरे डोज का शेड्यूल आ गया है, तो उन्हें पहले डोज लगाएं।

दूसरा डोज कितना लेट हो सकता है?
डॉ. लहारिया के मुताबिक सरकार और वैक्सीन कंपनियों की सिफारिशों को देखें तो कोवैक्सिन के दो डोज के लिए 6 हफ्ते और कोवीशील्ड के दो डोज के लिए 8 हफ्ते का अधिकतम समय दिया है। जब हम एविडेंस आधारित असेसमेंट की बात करते हैं तो दो डोज में कम से कम कितना अंतर रखना है, इसकी बात ही होती है। अधिकतम समय डोज की उपलब्धता के अनुसार तय हो सकता है। इसकी कोई अपर लिमिट नहीं होती।
इसका मतलब यह है कि कुछ मामलों में तो छह महीने तक का अंतर रखा जा सकता है। पर इसका मतलब यह नहीं है कि एक साल बाद दूसरा डोज लेने चले जाएं। यह कोई काम नहीं करेगा। हो सकता है कि तब आपको दोबारा दो डोज लेने पड़ जाएं।
मुंबई के जसलोक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर की डॉ. माला वी. कानेरिया, कंसल्टेंट, इंफेक्शियस डिजीज, का कहना है कि कोवीशील्ड के दूसरे डोज में 12 हफ्ते का अंतर हो भी गया तो कोई दिक्कत नहीं है। पर कोवैक्सिन को लेकर ऐसी कोई स्टडी नहीं हुई है। अन्य वैक्सीन के संबंध में उपलब्ध स्टडी कहती है कि अगर दूसरा डोज कुछ महीनों के बाद भी लेते हैं तो भी उसका असर कायम रहता है।
उनका यह भी कहना है कि कोरोना के केस बढ़ रहे हैं और सलाह दी जाती है कि लोग उपलब्ध होते ही दूसरा डोज लगवा लें। अगर देर हो भी जाती है तो घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। एक डोज के बाद भी उन्हें काफी हद तक प्रोटेक्शन मिलेगा ही।

बॉटम लाइन यह है कि जब भी दूसरा डोज उपलब्ध हो, तब आप उसे ले लीजिए। कम से कम हफ्तों का अंतर पूरा करने के बाद कभी भी दूसरा डोज ले सकते हैं।

अगर किसी व्यक्ति को पहले डोज के बाद कोरोना इन्फेक्शन हो गया तो वह दूसरा डोज कब लगवाएं?
डॉ. लहारिया के मुताबिक इन्फेक्शन तो दो डोज लेने के बाद भी हो सकता है। पर तब यह लक्षणों को ज्यादा गंभीर नहीं होने देगा। माइल्ड से मॉडरेट ही लक्षण होंगे। पर अगर पहले डोज के बाद इन्फेक्शन हुआ है तो दो परिस्थितियां बन सकती हैं-
1. पहला डोज लगने के तीन हफ्ते के अंदर इन्फेक्शन हुआ है तो इसका मतलब है कि वैक्सीन अपना काम शुरू कर ही नहीं कर सकी और व्यक्ति इन्फेक्ट हो गया। भारत सरकार के नियम के अनुसार ठीक होने के 4 से 8 हफ्ते के गैप में दूसरा डोज लेना चाहिए। पर दुनियाभर में हुई स्टडी कहती है कि वैक्सीन के डोज और नेचरल इन्फेक्शन दोनों का उद्देश्य शरीर में कोरोना वायरस के खिलाफ शरीर में एंटीबॉडी बनाना है। अगर इन्फेक्शन से एंटीबॉडी बनी है तो भी कम से कम 6-7 महीने तक तो प्रोटेक्शन मिलेगा ही। WHO की सिफारिश है कि ऐसे लोग 2 से 6 महीने के अंतर से वैक्सीन का डोज ले सकते हैं।
2. पहला डोज लगने के तीन हफ्ते बाद इन्फेक्शन हुआ है तो इस तरह के केस में नेचुरल इन्फेक्शन भी बूस्टर डोज का ही काम करेगा। ऐसे में लक्षण गंभीर नहीं होते और व्यक्ति आसानी से ठीक हो जाता है। इन लोगों को सलाह होगी कि वे 6 महीने रुककर ही वैक्सीन का डोज लगवाएं।

इन्फेक्ट होने पर प्लाज्मा थेरेपी या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी ली है तो वैक्सीन का डोज कब लगेगा?
डॉ. कानेरिया का कहना है कि अगर व्यक्ति पहले डोज के बाद इन्फेक्ट होता है और इलाज में प्लाज्मा थेरेपी या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी (टोसिलिजुमाब आदि) की जरूरत पड़ती है तो उसे दूसरे डोज के लिए इंतजार करना होगा। वह ऐसी किसी थेरेपी के कम से कम 3 महीने बाद ही दूसरा डोज ले सकेगा।

Related posts

दिल्ली: आईटीबीपी के कोविड-19 केंद्रों में मरीजों का तनाव दूर करने के लिए परामर्शदाता नियुक्त

Umang Singh

दिल्ली NCR पर भी चक्रवात ताउते का असर, सुबह से हो रही है रिमझिम बारिश, कई राज्यों में अलर्ट

Umang Singh

111 रन पर चेन्नई का तीसरा विकेट गिरा; हर्षल ने लगातार 2 बॉल पर रैना और डुप्लेसिस को पवेलियन भेजा:IPL LIVE

Umang Singh

ममता बनर्जी की चुनौती, अगर झूठे साबित हों, तो ‘कान पकड़कर उठक-बैठक लगाएं’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Umang Singh

लखीमपुर हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट का सवाल:रैली में सैकड़ों किसान थे तो सिर्फ 23 चश्मदीद क्यों?

admin

मॉस्को में तालिबान के दल से मिले इंडियन डिप्लोमैट, कहा-मानवीय आधार पर अफगानिस्तान को मदद दे सकता है भारत

admin

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases