30.1 C
New Delhi
June 22, 2021
Politics Trending

कोरोना संकट को लेकर घिरे मोदी को बंगाल के नतीजों से नहीं मिली ऑक्सीजन, अब यूपी-उत्तराखंड में लगानी होगी चुनावी वैक्सीन

खेला होबे…। हां, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने खेला कर दिखाया है। टीएमसी शुरुआती रुझानों में भाजपा से काफी आगे दिख रही है। वहीं, कोरोना त्रासदी के बीच जब देश भर में जब मोदी सरकार की जमकर आलोचना हो रही है, यहां तक भाजपा समर्थक भी सरकार और पार्टी नेतृत्व से नाराज हैं। इस सबके बीच पश्चिम बंगाल की हार भाजपा के लिए कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट जैसी है। यहां भाजपा को वोटों की पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाई है। हालांकि, असम में भाजपा आगे है। ऐसे में पार्टी वेंटिलेटर पर जाने जरूर बच गई है।

कोरोना की सुनामी के बीच लग रहा है कि मोदी लहर ठहर गई है। इन नतीजों का क्या मोदी के कद पर कोई असर पड़ेगा? इस पर राजनीतिक विश्लेषक एस अनिल कहते हैं कि मोदी और भाजपा ने अपनी पूरी ताकत बंगाल में झोंक रखी थी। ऐसा माहौल भी बनाया कि भाजपा जीत रही है। इसके बावजूद टीएमसी की जीत भाजपा और मोदी के लिए किसी सेटबैक से कम नहीं है। हां, दीदी ममता बनर्जी यदि नंदीग्राम में हारती हैं तो भाजपा को खुश होने का मौका जरूर मिल सकता है। भाजपा की इस हार के पीछे कई वजह हैं, सबसे बड़ी वजह है अति आत्मविश्वास।

बंगाल पूर्वोत्तर भारत का सबसे बड़ा राज्य है। विधानसभा सीटों के लिहाज से भी यूपी के बाद सबसे ज्यादा 294 सीटें यही हैं। ऐसे में देश के दूसरे सबसे बड़े सियासी राज्य को जीतना मोदी और भाजपा के लिए सपने के सच जैसा होना ही था। इसके साथ ही भाजपा के लिए अगले साल मार्च-अप्रैल में यूपी, उत्तराखंड और पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव में दोगुने मनोबल के साथ जाने का रास्ता खुल जाता। लेकिन, बंगाल में हार के बाद इन राज्यों में भाजपा को वोटों के वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी।

  • अब अगली बारी उत्तर प्रदेश की

देश के सबसे बड़े सियासी राज्य यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। भाजपा ने 2017 में यहां 312 सीटें जीती थीं। 2014 और 2019 में आम चुनाव में मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में भी यूपी का बड़ा योगदान रहा है। 2014 में एनडीए यूपी में 80 में 73 सीटें जीती थीं। 2019 में एनडीए को 62 सीटों पर जीत मिलीं। ऐसे में आगामी विधानसभा चुनाव मोदी और भाजपा के भविष्य के लिए काफी अहम हैं। मोदी खुद भी यूपी से ही सांसद हैं, ऐसे में भाजपा का यूपी में सबकुछ दांव पर रहेगा।

  • उत्तराखंड का उत्तर इंतजार है

देवभूमि उत्तराखंड में भाजपा के लिए सबकुछ सामान्य नहीं है। भाजपा को पिछले विधानसभा चुनाव में यहां की 70 में से 57 सीटें मिली थीं। इसके बावजूद आगामी चुनाव से पहले पार्टी को अपना मुख्यमंत्री बदलना बड़ा है। त्रिवेंद्र सिंह रावत की जगह तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया है। अब देखना है कि क्या नए मुख्यमंत्री दोबारा भाजपा को सत्ता में वापस ला पाएंगे? भाजपा को 2019 आम चुनाव में भी राज्य की सभी 5 सीटों पर जीत मिली थी। यहां भी 2022 में मार्च-अप्रैल में चुनाव होने हैं। ऐसे में उत्तराखंड को बचाना मोदी और भाजपा के लिए एक बड़ी चुनौती है।

  • पंजाब को फतह करना नहीं है आसान

पंजाब में भी यूपी और उत्तराखंड के साथ अगले साल चुनाव होने हैं। यहां भाजपा हमेशा से अकाली दल के साथ गठबंधन में रही है। अब यहां किसान आंदोलन के चलते अकाली दल भाजपा से अलग हो चुकी है। ऐसे में भाजपा के लिए यहां सीटें जीतना बिल्कुल आसान नहीं है। भाजपा के पास राज्य में कोई चेहरा भी नहीं है। ऐसे में भाजपा यहां मोदी के चेहरे के साथ ही मैदान में जाएगी।

Related posts

बीजापुर नक्सल हमला: ‘यदि खुफिया विफलता नहीं तो ऑपरेशन खराब तरीके से था डिजाइन’- राहुल गांधी

admin

विराट कोहली ने कोरोना प्रोटोकॉल की अनदेखी न करने की अपील की, मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें

Umang Singh

भारत में Covid-19 की दूसरी लहर : भारत में कोरोना संकट के बीच US ने किया दोस्ती का फ़र्ज़ निभाने का वादा , क्‍या भारतीय वैक्‍सीन कंपनियों को कच्‍चा माल मिलेगा

Umang Singh

6वें चरण में सुबह 9:30 बजे तक 17.19% मतदान:West Bengal Election 2021

Umang Singh

पीएम मोदी ने तीन मुख्यमंत्रियों को फोन करके जाना राज्य में कोरोना की स्थिति का हाल

Umang Singh

UP में रिकॉर्ड 12 हजार से ज्यादा कोरोना के केस, एक तिहाई मामले सिर्फ लखनऊ में मिले

Umang Singh

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases