32.1 C
New Delhi
June 17, 2021
Trending

धर्मगुरु के अंतिम संस्कार में जुटी 10 हज़ार की भीड़ ने कोरोना गाइडलाइंस की उड़ाई धज्जियाँ

Ghazi Fakir : नहीं रहे वो मुस्लिम धर्मगुरु जो भारत-पाक सीमा इलाके में खुद  की कोर्ट लगाकर सुनाते थे फैसले | ghazi fakir passed away in Jaisalmer  Rajasthan Know His Life Journey

दिवंगत गाजी फकीर के अंतिम संस्कार पर हजारों लोगों की भीड़ जमा हुई.

कोरोना संक्रमण के चलते सरकार मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की गुहार लगा-लगा कर थक गई लेकिन कुछ लोगों ने इसे न मानने की ठान ली है. राजस्थान के जैसमलमेर से एक धर्मगुरु के अंतिम संस्कार की चौंकाने वाली तस्वीरें सामने आई हैं. इन तस्वीरों में कोरोना नियम-कायदों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही हैं. अंतिम संस्कार में हजारों की भीड़ जमा हुई. जिन धर्मगुरु की मौत हुई उनके बेटे सालेह मोहम्मद राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री भी हैं.

धर्मगुरु गाज़ी फकीर 84 साल के थे. लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. जोधपुर के एक प्राइवटे अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. कुछ दिनों से कोमा में थे. 27 अप्रैल को उनका निधन हो गया. उनके शव को उनके पैत्रिक गांव में झबरा ले जाया गया. जहां बड़ी संख्या में लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए जुटने लगे.

10 हजार लोगों की भीड़ जमा हुई

आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, गाजी फकीर के अंतिम संस्कार में 10,000 से ज्यादा लोग पहुंचे थे. जैसलमेर और बाड़मेर के साथ आस-पास के इलाकों के लोग जमा हुए. कोरोना को लेकर सरकारी गाइडलाइंस की धज्जियां उड़ाते हुए गाज़ी फकीर की अंतिम यात्रा भी निकाली गई. बाद में झबरा गांव की दरगाह में गाजी फकीर के पिता की कब्र के पास ही मुस्लिम समाज की रीतियों के अनुसार उन्हें सपुर्द-ए-खाक किया गया. इस दौरान न प्रशासन ने भीड़ जमा होने पर न किसी को रोका और न ही किसी पर कोई एक्शन लिया गया.

Covid norms go for a toss at Gazi Fakir's funeral in Jaisalmer - The  Economic Times Video | ET Now

बता दें कि जीते जी खुद गाज़ी फकीर ने कहा था कि कोरोना वायरस से बचने के लिए ज़रूरी है कि लोग मास्क लगाएं और सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करें. उनके बेटे सालेह मोहम्मद ने भी लोगों से अपील की थी कि कोरोना संक्रमण के चलते गाइडलाइन का पालन करें और अपने घरों में ही रहें. इसके बावजूद भारी संख्या में लोग अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे थे. बता दें कि सालेह मोहम्मद खुद कोरोना पॉजिटिव थे.

अंतिम संस्कार में भीड़भाड़ की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल भी हो रही हैं. लोग इसका वीडियो डाल कर प्रदेश सरकार से कोरोना नियम-कायदों को लेकर सवाल पूछ रहे हैं.

राजस्थान के सिंधी मुसलमानों में अच्छी पकड़

असल में जैसलमेर निवासी गाजी फकीर पाकिस्तान में मुस्लिम समाज के बड़े धर्मगुरु पीर पगारों के नुमाइंदे थे. गाजी फकीर जैसलमेर, बाड़मेर सहित राजस्थान के सिंधी मुसलमानों में अच्छी खासी पकड़ रखते थे. जैसलमेर-बाड़मेर की राजनीति में मजबूत पकड़ रखने वाले गाजी फकीर का पूरा परिवार लंबे अरसे से राजनीति में सक्रिय है. पाकिस्तान के सिंध प्रांत में भी जब जब उनके निधन की खबर पहुंची तो वहां से भी शोक संदेश आने लगे. राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, पूर्व सीएम वसुंधरा राजे सिंधिया, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा, सचिन पायलट सहित राज्य के दूसरे नेताओं ने उनके लिए शोक संदेश ट्वीट किए.

Related posts

कोरोना के मामलों में इजाफे के बीच कोलकाता में छोटी-छोटी चुनावी सभाएं करेगी TMC

Umang Singh

नोएडा के कैलाश हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की भारी कमी, नए मरीजों की भर्ती बंद

Umang Singh

दुनिया में कोरोना से मौत की संख्या 30 लाख पार, रोजाना 12 हजार से अधिक की जा रही जान

Umang Singh

किसान आंदोलन की कामयाबी ही चौधरी अजित सिंह को सच्ची श्रद्धांजलि : राकेश टिकैत

Umang Singh

ताउते तूफान : बंबई हाई में दो बजरे के लंगर हटे, उनपर सवार 410 कर्मचारियों को बचाया गया- एफकॉन्स

Umang Singh

सेंट्रल विस्टा निर्माण के बचाव में केंद्र:दिल्ली HC से कहा- मजदूर कर्फ्यू लागू होने के पहले से काम कर रहे, सबका इंश्योरेंस है और वहां कोविड फैसिलिटी भी है

Umang Singh

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases