14.1 C
New Delhi
November 30, 2021
Politics Trending

लेंसेट पत्रिका में लिखा : PM मोदी के काम माफी लायक नहीं, उन्हें कोरोना पर अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए

मेडिकल रिसर्च जर्नल ‘द लेंसेट’ ने अपने एक संपादकीय में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की कार्यशैली पर तल्ख टिप्पणी की है। जर्नल ने लिखा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम माफी लायक नहीं हैं, उन्हें पिछले साल कोरोना महामारी के सफल नियंत्रण के बाद दूसरी लहर से निपटने में हुई अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

धार्मिक आयोजन और चुनावी रैलियां क्यों
द इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन के संपादकीय के हवाले से अनुमान लगाया गया है कि भारत में इस साल 1 अगस्त तक कोरोना महामारी से 10 लाख लोगों की मौत हो जाएगी। अगर ऐसा हुआ तो मोदी सरकार इस राष्ट्रीय तबाही के लिए जिम्मेदार होगी। क्योंकि, कोरोना के सुपर स्प्रेडर के नुकसान के बारे में चेतावनी के बावजूद सरकार ने धार्मिक आयोजनों को अनुमति दी, साथ ही कई राज्यों में चुनावी रैलियां कीं।

आलोचनाओं पर लगाम लगाने में लगी है सरकार
जर्नल ने आगे लिखा कि मोदी सरकार कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के बजाय ट्विटर पर हो रही आलोचनाओं और खुली बहस को हटाने में ज्यादा जोर लगा रही है। जर्नल ने भारत सरकार की वैक्सीन पॉलिसी की भी आलोचना की है। उसने लिखा कि सरकार ने राज्यों के साथ नीति में बदलाव पर चर्चा किए बिना अचानक बदलाव किया और 2% से कम जनसंख्या का टीकाकरण करने में ही कामयाब रही।

हेल्थ सिस्टम पर भी उठाए सवाल
जर्नल ने भारत के हेल्थ सिस्टम पर भी सवाल खड़ा किया है। पत्रिका ने आगे लिखा कि अस्पतालों में मरीजों को ऑक्सीजन नहीं मिल रही है, वे दम तोड़ रहे हैं। मेडिकल टीम भी थक गई है, वे संक्रमित हो रहे हैं। सोशल मीडिया पर व्यवस्था से परेशान लोग मेडिकल ऑक्सीजन, बेड, वेंटिलेटर और जरूरी दवाइयों की मांग कर रहे हैं।

जानकारी के बावजूद सरकार बेपरवाह रही
लेंसेट ने आगे बताया कि हेल्थ मिनिस्टर डॉ. हर्षवर्धन मार्च के पहले ऐलान करते हैं कि अब महामारी खत्म होने को है। केंद्र सरकार ने बेहतर मैनेजमेंट के साथ कोरोना को हराने में सफलता प्राप्त की है। लेकिन दूसरी लहर की बार-बार चेतावनी के बावजूद भी सरकार नहीं चेती।

वैक्सीन पॉलिसी पर भी सवालिया निशान
सरकार ने पिछले साल कोरोना के शुरूआती दौर में महामारी को नियंत्रित करने में बेहतरीन काम किया था, लेकिन दूसरे वेव में सरकार ने बड़ी गलतियां की हैं। महामारी के बढ़ते संकट के बीच सरकार को एक बार फिर जिम्मेदारी और पारदर्शिता के साथ काम करना चाहिए। संपादकीय में केंद्र सरकार को दो तरफा रणनीति पर काम करने का सुझाव दिया गया है। पहला- भारत को वैक्सीनेशन प्रोग्राम बेहतर ढंग से लागू करना चाहिए और इसे तेजी के साथ बढ़ाने पर काम हो। दूसरा- सरकार जनता को सही आंकड़े और जानकारियां मुहैया करवाए।

Related posts

पीएम मोदी जिलाधिकारियों के साथ बैठक में बोले- जब आपका जिला कोरोना को हराएगा, तब देश कोरोना से जीतेगा

Umang Singh

अहमदाबाद के साणंद में कोरोना के प्रकोप से बचने के लिए हनुमान मंदिर में उमड़ी हजारों महिलाओं की भीड़

Umang Singh

आजतक के मशहूर एंकर रोहित सरदाना का हार्ट अटैक से निधन

Umang Singh

जायडस कैडिला की ‘विराफिन’ दवा के आपातकालीन उपयोग को कोरोना के इलाज के लिए DCGI से मिली मंजूरी

Umang Singh

अरब सागर में 16 मई को चक्रवाती तूफान आने की आशंका, दिल्ली समेत कई राज्यों में हल्की बारिश

Umang Singh

फ्रांस की वेबसाइट मीडिया पार्ट की रिपोर्ट- राफेल लड़ाकू विमान सौदे में भ्रष्टाचार की आशंका, दैसो ने 4.39 करोड़ क्लाइंट गिफ्ट के नाम पर दिए

admin

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases