36.1 C
New Delhi
June 21, 2021
Trending

सब कुछ ठीक रहा तो भारत में आई कोरोना की दूसरी लहर दो सप्‍ताह में हो जाएगी खत्‍म- एक्‍सपर्ट

अधिकतम दो सप्‍ताह में जा सकती है कोरोना की दूसरी लहर

भारत में फरवरी 2021 से आई कोरोना की दूसरी लहर जल्‍द ही थम सकती है। लेकिन इसके लिए सभी चीजों का ठीक रहना बेहद जरूरी है। यदि कोई लापरवाही हुई तो इसमें अधिक समय भी लग सकता है।

नई दिल्‍ली । भारत में आई कोरोना महामारी की दूसरी लहर का पीक अब जा चुका है। फरवरी 2021 में आई इस लहर में अप्रैल के अंत में 4 लाख से अधिक मामले रोजाना सामने आए थे, लेकिन 9 मई के बाद से इनमें गिरावट का रुख दिखाई दे रहा है, जो इस बात का संकेत है कि हम सही तरीके से इस महामारी से लड़ रहे हैं। इस लहर का पीक आने के बाद से इस बात की भी चर्चा शुरू हो गई है कि आखिर ये दूसरी लहर कब तक बनी रहेगी। इस सवाल के जवाब में सफदरजंग अस्‍पताल के कम्‍यूनिटी मेडिसिन डिपार्टमेंट के प्रोफेसर और हैड डॉक्‍टर जुगल किशोर बताया कि यदि सब कुछ ठीक रहता है तो ये लहर अधिकतम दस दिनों से लेकर दो सप्‍ताह के बीच में खत्‍म हो जाएगी।

हालांकि, प्रोफेसर जुगल किशोर का ये भी कहना है कि भारत में दूसरी लहर का जाना कई बातों पर निर्भर करता है। इनमें सबसे प्रमुख है हम कोविड नियमों का कड़ाई से पालन करें और इस वायरस को फैलने से रोकने में अपनी भूमिका स्‍पष्‍ट करें। उनके मुताबिक यदि लोगों की सड़कों पर आवाजाही जारी रही और बाजारों में भीड़-भाड़ बढ़ी तो दूसरी लहर के खत्‍म होने का समय भी उसी तेजी के साथ आगे बढ़ जाएगा। इसके अलावा उनका ये भी कहना है कि यदि हम वैक्‍सीनेशन में तेजी लाएं और अधिक से अधिक लोगों को वैक्‍सीन दे सके तो भी हम इस लहर को समय पर खत्‍म कर सकेंगे। उनके मुताबिक वैक्‍सीन मिल जाने से इस वायरस को फैलने से रोका जा सकता है।

डॉक्‍टर जुगल किशोर के मुताबिक एक्टिव मामलों में जैसे-जैसे गिरावट आएगी वैसे-वैसे ही दूसरी लहर का प्रकोप भी थमने लगेगा। उन्‍होंने बताया कि संक्रमण की चपेट में आने के दो या तीन दिन के बाद इससे संबंधित परेशानियों का दिखाई देना शुरू हो जाता है। ऐसे में आने वाले दस दिन बेहद खास होते हैं। ये न सिर्फ मरीज के लिए खास होते हैं बल्कि उसके संपर्क में आने वाले लोगों के लिए भी बेहद अहम होते हैं। इस दौरान यदि किसी को कोई परेशानी नहीं होती है तो ये अच्‍छी बात है, लेकिन यदि होती है तो उसको अपने आपको आइसोलेट कर लेना चाहिए।

एक्टिव केस का कम होना इस बात का भी सुबूत होता है कि हमारे कांटेक्‍ट कम हो रहे हैं, जो हमारी अपनी कड़ाई या नियमों के पालन की वजह से हुए हैं। उनका ये भी कहना है कि मौजूदा समय में देश के अधिकतम लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। इनमें से कुछ इससे दवाओं के माध्‍यम से और कुछ अपनी स्‍ट्रॉन्‍ग इम्‍यूनिटी की वजह से इससे उबर गए हैं। अपनी इम्‍यूनिटी के बल पर उबरने वालों के संपर्क में जो लोग आए होंगे उनमें से कुछ ही ऐसे होंगे जिन्‍हें अस्‍पताल जाने की जरूरत महसूस होगी।

Related posts

यूपी में कोरोना: दो दिनों के लिए बढ़ाया गया लॉकडाउन, 10 प्वाइंट में जानें क्या रहेगा बंद और क्या खुला

Umang Singh

मुंबई में मोबाइल वैन से किया जाएगा वैक्सीनेशन, ऑक्सीजन के 14 प्लांट भी लगेंगे;

Umang Singh

दिल्ली के कुछ सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में पहुंची ऑक्सीजन, दोपहर बाद फिर हो सकती है किल्लत

Umang Singh

कोरोना ने गांवों में ‘पांव पसारे’ लेकिन अभी भी टीके को लेकर ग्रामीण उदासीन, दे रहे ‘अजीब’ तर्क..

Umang Singh

सचिन तेंदुलकर ने ‘इंटरनेशनल नर्स दिवस’ के मौके पर किया ट्वीट, हम आपके आभारी हैं..’

Umang Singh

अंतरराष्ट्रीय सीमा के कानाचक्क सेक्टर में दिखा पाकिस्तानी ड्रोन, तलाशी अभियान जारी : जम्मू कश्मीर

Umang Singh

Leave a Comment

Live Corona Update

Live updates on covid cases